True friend aise hi hote hai

ये कैसी दोसती है अपनी जो दुर रहने नही देती,  चैन से दो पल साथ रहने भी नही देती,

Author: Rooh

hyy मे एक शायर हुँ और मे शायरी करता हुँ

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *