ज़िन्दगी एक ख्वाब है

काश यह ज़िन्दगी एक खवाब बनकर तेरी बाहो में पूरा हो,

आये आखिरी साँस भी तोह इन बाहो का सहारा हो

चलो एक नया रिश्ता बनाते है,

तुम हम बन जाओ, हम बन जाये तुम

कोई शिकवा ना रहे ना कोई गिला,

फूल औऱ खुशबू से एक दूजे में समा जाए हम

तुमको याद है क्या वोह रात जब बारिश से भीगे हम मिले थे,

बाहों में लेकर एक दूजे से शरमाये थे,

वो जो एहसास था आज भी साथ है

चाहे आपके पहलू से सुबह होते ही हम उठ आये थे

 

तुमको जो पाया

तुमको  पाया  तो  जैसे  जहाँ  पा  लिया, वरना यूही जिये जा रहे थे

मंज़िल बनाया है अब आपको वरना तो बस बेवज़ह रास्तो पर चले जा रहे थे

रात  कटी  तेरी  याद  में  सुबह  हुई  तेरे  नाम  से ,

दिन  भर  तेरी  तस्वीर  है  फिर  भी  क्यों  लगता है कि तू दूर है

यादों  के  पन्नों  से  भरी  है “जिंदगी”,

सुख औऱ दुख की पहेली है “जिंदगी”

कभी अकेले बैठ कर विचार करके तो देखो,

संबंधो के बगैर कितनी अधूरी सी है ज़िन्दगी

चलो  चलते   है   फिर   उन्ही   राहो   पर   वापिस,     ना  गम   की   परछाई   हो  ना   यादो   के   साये,    बस  एक  हम  हो  एक  दूजे  की  बाहों  मे समाए

रिश्तों की पहचान कराई है आपने

हम तो यूही चले जा रहे थे,

ज़िन्दगी से मुलाकात कराई है आपने

 

Khud ko chupa lo

यूही पलको को बंद किये बैठे है, सोचते है हमसे छुप सकेंगे,

खोज ही लेंगे हम तोह आपको इन दिल की आँखों से कैसे बच पाएँगे