तुमको चाहा है मैंने बेइंतहा यह सबको है ख़बर, अब तो तुम ही  मेरी मंज़िल तुम ही हमसफ़र, ना जाना दुर कभी मुझसे है  इतनी गुजारिश, जी ना पाएंगे बिछड़ के तुमसे पलभर

मोहब्बत करने वाले अंजाम की परवाह कब करते है,  दिल ने जिसे अपना कहा उसके ही हो के रहते है, चाहे आये आंधी या तूफान किसे फिक्र, तेज़ हवाओ के रुख भी मोड़ देते है

सनम  के  हाथों  में  जो  दिया  हाथ  अपना ,  यू   लगा   संभल   गए   हमतो,   पर   ना  जाने क्या   असर था उनकी नज़रो में फिसल ही गये हमतो, होश जब आया तो अपना कुछ रहा नही उनके हो गए हमतो

पानी से तस्वीर कहा बनती है , ख्वाबो से तकदीर कहा बनती है, किसी भी रिश्ते को दिल से निभाओ यह ज़िन्दगी वापिस कहा मिलती हैं

तुम्हे याद करतें हैं

ना आना इन रास्तों मे फिर कभी कह देते है, बड़ी मुश्किल  से उस चेहरे को भूल पाए है,  मेरी  मम्मी अभी भी अक्सर याद  करती है, बड़ी कोशिश से तुम्हारे गोलगप्पे की लत उनसे छुड़ा पाए है??

Let’s have fun

तेरी  गलियों  से  ना  गुज़रेंगे  आज  के  बाद, तेरे  बुलाने  पर  भी  ना  आएंगे  एक  बार ,  कुते  पहचानते है तभी भोंकते है बार बार,

“पुराना याराना लगता है ?”

मेरे ख्वाबो में तुम

दिल  के  धड़कने   का  सबब  अब  समझे  है, रातो  को  हसीन  खवाब का मतलब समझे है, तेरी  तस्वीर  जबसे  रखी  है  सिरहाने  तले, बिस्तर  की  सलवटों को  अब  समझे  है