एहसास भी ना होगा हम दूर हो जाएंगे, धीरे धीरे आपकी ज़िंदगी से निकल जाएंगे, पर इतना तो यकीन है अपनी वफ़ा पर, जब भी याद आयेंगे लबो पर हँसी आँखों में आँसू दे जाएँगे

बड़े वोह हो

मुझे कैसे मिले सकूँ जब तुम रात रात भर जागते हो, बस मुझसे ही नही होती बाते ना जाने कितनी से चोंच लड़ाते हो

तुम हसीन ख्वाब मेरे

तुमको क्या बताये हाल ए दिल अपना, यह धड़कता ही नही तुमको देखे बिना, कह दो के ना जायोगे कभी दूर हमसे, बस इन पलकों में रहो हरदम बनके सपना

नही पास तो क्या हुआ दिल में हो हरदम मेरे, रिश्ता नही तुमसे कुछ भी पर सब कुछ तुम ही हो अब मेरे,

तुम क्या जानो कितना तड़पते है हम, बस देख के तुमको साँस लेते है हम, ना जाया करो पल भर भी इन नज़रो से दूर , सिर्फ तुम्हारे लिए ही तो हर सुबह आँखे खोलते है हम