रहने दे मुझे इन अघेरे मे गालिब,

कमबख्त रोशनी मे

अपनो के चहरे नजर आ जाते है

Author: Rooh

hyy मे एक शायर हुँ और मे शायरी करता हुँ

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *