ए मेरे खुदा मुझपर इतनी इनायत कर दे, यह दिल मेरा तू उनसा कर दे, भूल जाऊ पल में वो मोहब्बत उनकी, बस मेरी भी ऐसी तबियत कर दे

Author: Rooh

hyy मे एक शायर हुँ और मे शायरी करता हुँ

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *