उनका यह लगाव कब प्यार में बदलेगा इस उम्मीद में वक़्त बिताए जाते हैं, आते तो वो रोज़ है मिलने पर हमारे है कहने से घबराते है

Author: Rooh

hyy मे एक शायर हुँ और मे शायरी करता हुँ

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *