तुमको याद है क्या वोह रात जब बारिश से भीगे हम मिले थे,

बाहों में लेकर एक दूजे से शरमाये थे,

वो जो एहसास था आज भी साथ है

चाहे आपके पहलू से सुबह होते ही हम उठ आये थे

 

Author: Rooh

hyy मे एक शायर हुँ और मे शायरी करता हुँ

Leave a Reply