लबो पे होँट रख के बोली वो

लबो पे होट रख के बोली वो

क्या शिकायत क्या गिला है अब बोलते क्यु नही

Author: Rooh

hyy मे एक शायर हुँ और मे शायरी करता हुँ

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *