ना दिल की चली ना आँखो की

(1) ना दिल की चली ना आँखो की,

हम तो दिवाने बस तेरी मुस्कान के हो गए

❤❤❤❤❤❤

(2) मुझसे मोहब्बत कर लो वरना सजा दुगा,

कमर से पकडुँगा ओर सीने से लगा लूँगा

❤❤❤❤❤❤❤

(3) यूँ तो हम अपने आप मे गुम थे,

सच तो ये है की वहाँ भी तुम थे

❤❤❤❤❤❤❤

(4) उसके होठो को चूमा तो

एहसास हुआ की,

एक पानी ही जरुरी नही

प्यास बुझाने के लिए

❤❤❤❤❤❤❤

(5) तुम्हारी मिसाल ही यही की

बे-मिसाल हो तुम

❤❤❤❤❤❤❤

(6) तुम दुआ के वक्त जरा मुझको

भी बुला लेना,

दोनो मिलकर एक दुसरे को मांग लेगे

❤❤❤❤❤❤❤

(7) तुही मेरी जिन्दगी,

तू ही मेरी जान है

मुझको तू मिल जाए,

मेरा यही एक अरमान है

❤❤❤❤❤❤❤

(8) मेरा कत्ल करके क्या मिलेगा तुमको,

हम तो वैसे भी पर मरने वाले है

❤❤❤❤❤❤❤

(9) मैने जान बचा रखी है,

एक जान के लिए,

इतना इश्क कैसे हो गया,

एक अनजान के लिए

❤❤❤❤❤❤❤

(10) तू शायद मुझे भूल गई होगी लेकिन,

मेरे मोबाइल का लोक आज भी 

तेरे नाम से खुलता है

❤❤❤❤❤❤❤

(11) दिल पे आए हुए इल्जाम से 

पहचानते है,

लोग अब मुझ को तेरे नाम से

पहचानते है

❤❤❤❤❤❤❤

(12) उसकी मुस्कान से पडता है 

मेरी सेहत मे फ़र्क,

और लोग पूछते है की दवा का नाम क्या है

❤❤❤❤❤❤❤

(13) चलो माना की आपकी आदत है मुस्कुराना,

ऐ जान जरा सोचो कोई मर गया तो क्या करोगी

❤❤❤❤❤❤❤

(14) उन आँखो को चैन कहाँ आता है,

जिन आँखो मे सवार इश्क हो जाता है

❤❤❤❤❤❤❤

(15)  हमे तो बस उस का मुस्कुराना अच्छा लगता था

हमे क्या खबर थी की मोहब्बत हो जायेगी

Author: Rooh

hyy मे एक शायर हुँ और मे शायरी करता हुँ

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *