तुम कभी मेरे साथ आसमांन तक चलो

तुम कभी मेरे साथ आसमांन तक चलो

मुझे इस चाँद का गुरूर तोड़ना है

 

Author: Rooh

hyy मे एक शायर हुँ और मे शायरी करता हुँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *